Skip to main content

Disclaimers

Thank you for checking out JANAKYADAV.COM

Please go through the disclaimers as mentioned below.

English :

Copyright Disclaimer

All contents like text, images, logos are owned or licensed by Janak Kumar Yadav. Content may not be copied, downloaded, transferred, reproduced, transmitted, or distributed in any form without prior written consent from Janak Kumar Yadav, and without proper attribution to Janak Kumar Yadav. Copyright infringement is a violation of the law.

Views Expressed Disclaimer

The views and opinions expressed on this website are solely those of the original authors and other contributors and do not necessarily represent those of Janak Kumar Yadav, the JANAKYADAV.COM Team, and all/or any contributors to this site.

Disclaimer of Liability

Janak Kumar Yadav has made the utmost effort to research and keep the current and updated information on our site. However, We/I, make still take no warranties or representations, express or implied, as to the timeliness, accuracy or completeness of the information contained or referenced therein. Any or all access or use of our site and any site linked to my site (third-party website), is at the risk of the user itself. We/I are not liable in any manner whatsoever for any direct, indirect or consequential damages arising out of the use of this site or any third party website.

On this blog website, you will find many links to third party websites and they are only provided for convenience only or to cover up the bases for our customers. These materials and services are beyond my control. We do not have any belief or judgment about the content of these third-party websites and have no liability altogether for any third party information and use thereof. I do not accept any responsibility for the content, accuracy, completeness, legality or function of these websites.

Affiliate Marketing:

From time to time you may see Affiliate Marketing links on this website. Which by any means doesn't mean directly or indirectly endorsing the product or service. 





Devanagari हिंदी  :

प्रतिलिप्यधिकार खंडन 

यहाँ प्रस्तुत चित्र, विषयवस्तु और वेबसाइट लोगो का स्वामित्व या इस्तेमाल का अधिकार पत्र जनक कुमार यादव को ही है

सभी अंतर्वस्तु विषय प्रतिलिप्यधिकार (Copyright ) द्वारा सुरक्षित किया हुआ है इसलिए आप इसे किसी भी रूप में बिना जनक कुमार यादव के लिखित आदेशानुसार या उन्हें उत्तरदायी ठहराए बिना किसी भी प्रकार का नक़ल - डाउनलोड या अधोभारण - हस्तांतरण - प्रतिलिपि तैयार करना - प्रसारित करना या विभाग करने का प्रयत्न नहीं कर सकते! प्रतिलिप्यधिकार उल्लंघन एक दंडनीय अपराध है !

निश्चित दृष्टीकोण खंडन 

इस वेबसाइट पर सबके स्वरुप रक्खे हुए विचार, राय या मता-मत उनके वास्तविक वक्ता या अंशदाता के हैं इससे यह नहीं साबित किया जा सकता है के वे विचार स्वयं जनक कुमार यादव के ही हैं 

दयित्विक खंडन 

जनक कुमार यादव ने हमेशा अपने शोध पर अथक प्रयास किया है ताकि इस वेबसाइट पर तत्काल के तर्ज पर जानकारियां प्रस्तुत की जा सके फिर भी हम इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेते के अंतर्निहित प्रकाशन संपूर्ण रूप से हर समय में खरा उतरता रहेगा


यह सम्पूर्णतः आपकी ज़ोखिम लेने की कला ही होगी अगर आप पूरी तरह से इस वेबसाइट या यहाँ वर्णित किसी दूसरी वेबसाइट पर आँख बंद कर भरोसा करेंगे अर्थार्त इसके परिणामस्वरूप होने वाले किसी भी नुकसान के लिए हम या मेरी वेबसाइट दायी नहीं होगी


मेरी ब्लॉग साइट पर आपको दूसरों की वेबसाइट की लिंक दिख सकती है ऐसा यहाँ आपके लिए तथ्यों को दर्शाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है

ऐसे साइट और लिंक मेरे काबू में नहीं होते इसलिए उनके विषयवस्तु से मेरा जुड़ाव केवल नाम मात्रा के लिए ही है और मैं उन (third-party websites) की किसी भी तरह की जवाबदेही नहीं ले सकता


Affiliate Marketing का प्रयोग 

हम इस वेबसाइट पर affiliate marketing का प्रयोग करते हैं पर इसका मतलब यह नहीं के सीधे या किसी और रूप से हम / अंशदाता उस चीज़ों या सेवाओं का समर्थन करते हैं 

Popular posts from this blog

कलकत्ता का प्रसिद्द बाबा भूतनाथ मंदिर और हावड़ा निवासी भक्त

कुछ ढूंढली यादें और कंप्यूटर में रक्खे हुए कुछ फोटो ने मेरा ध्यान आकर्षित किया! जैसे ही मैंने फोटो देखने के लिए खोला तो सहसा याद आगया के यह सारे फोटो 2012 के सावन के महीने की हैं! वह मेरा आखरी सावन था जब बाबा धाम से लौटने के बाद, आखरी सोमवार को मैं अपने दोस्तों के साथ कलकत्ता के निमतला समसान घाट स्तिथ बाबा भूतनाथ के मंदिर गया था! आखरी सावन इसलिए क्यूंकि 2013 में पिता जी के परलोक सिधारने के बाद; ना ही मैं बाबा धाम गया और ना ही सावन के महीने में भूतनाथ मंदिर! समय बीतता गया, संन् 2014 आगया और मैं फिर से उसी जगह खड़ा हूँ जहाँ मैंने खुद को छोड़ा था! आज उन्ही यादों और अनुभव को कुछ पुराने फोटो के जरिये आपके सामने ला रहा हूँ! Lord Shiva at Bhootnath Temple-- Smartphone Photography by JNK Bandhaghat Launch Ghat-Howrah side (Smartphone Photography by JNK) मैं हावडा में रहता हूँ, इसलिए बाबा के मंदिर जाने के लिए मुझे बांधाघाट लांच घाट से फेरी पकड़नी पड़ती है! इस सुभ यात्रा की शुरुआत गंगा नदी पर सफर करने से शुरू होती है! Smartphone Photography by JNK गंगा नदी पार करने के बाद

कोलकाता के थीम दुर्गा पूजा के सभी फोटो - Durga Puja Photo Throwback

कोलकाता पश्चिम बंगाल की राजधानी है। इसे भारत का सिटी ऑफ़ जॉय भी कहा जाता है यानि एक ऐसा शहर जो खुशियों से भरा हो। मैं तो इसे त्योहारों की राजधानी मानता हूँ। ऐसा ही एक त्योहार है दुर्गा पूजा जिसे देश के अन्य भागों में दशहरा या दसरा के नाम से भी जाना जाता है। वैसे दुर्गा पूजा और दशहरा में उतना ही अंतर है जितना की नवरात्री और दुर्गा पूजा में है। चाहे नाम जो भी हो पर देवी दुर्गा की आराधना ही इस पर्व का मूल उद्देश्य होता है। कोलकाता-वासी साल भर राह देखते रहते हैं के कब दुर्गा पूजा आए और उनकी खुशियों में चार चाँद लगे। इसकी उलटी गिनती ओडिशा के प्रसिद्द श्री जगन्नाथ जी के 'रथ यात्रा' के दिन से शुरू हो जाती है। कमोवेश रथ पूजा के बाद से 100 दिन शेष रह जाते हैं दुर्गा पूजा के लिए जो की तैयारियां शुरू कर देने का उद्घोष होता है। बंगाली समाज में माता रानी से इतना लगाव है की कोलकाता और बंगाल के सभी जिलों में दुर्गा पूजा बड़े ही धूम-धाम से मनाई जाती है। गली हो या मोहल्ला, थोड़ी सी जगह हो या बड़ी-चौड़ी जगह दुर्गोत्सव के रूप-रंग में ढलने में किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं होती। बड़ी ही सरलता

If I had two extra hours in a day,I would......

Picture courtesy-Internet Now a days,every person's life is so busy and so hectic that we do not get time for other things.Even we do not get much time to complete our pending works on the same day or other day.In this way,the pending works get clotted and becomes a huge mountain to climb upon .          I was thinking that in these busy hours of work or study,if I get two more extra hours in a day, what will I do ?         Whether I will spend them in completing my pending works of getting a new Ration Card,as we have from shifted from the rented house to our own home on the other side of the town,or will I go to meet some of my friends and relatives with whom I never find time to meet,though they are in the same town .        I have got other options also to spend my time,like meeting and having fun with my old classmates hovering around Kolkata or visiting my old area & meeting those peoples who were with us in that rented colony since the time I opened my eyes as