Skip to main content

इतना पूजनीय कर दो वृक्ष को की कभी कोई न काट पाए

टेक्नोलॉजिकल उन्नति के तरफ अग्रसर हो रहे देश-दुनिया को पेड़ पौधों का महत्व और वृक्षारोपण के लिए जागरूक और उत्साहित करने का प्रयास इस हिंदी कविता द्वारा करने की कोशिश की गई है।


"हो मूर्ति विसर्जन से निकला पौधा
या हो कब्र पर झूमती फूलों की बेल
ये सौगात है एक नए जीवन की
जो है जाने वालों का खेल।

इसकी सेवा वैसे ही करो
जैसे की वे जानेवाले की धरोहर हो।

तिनका-तिनका बढ़ते देख
मन खुशी से सरोवर हो।

इतना पूजनीय कर दो वृक्ष को
की कभी कोई न काट पाए।

दोस्त तो दोस्त
दुश्मन भी उसकी छाँव में सुस्ताये।

इतना पूजनीय कर दो वृक्ष को
की कभी कोई न काट पाए"

🙏 🌱🌺🏵️🌼🌹🌳🌾🌿🍂🍁🌲🌵🌴🌷🥀💮🌸🌼

#PlantWhateverYouCan

Comments

Popular posts from this blog

If I had two extra hours in a day,I would......

Picture courtesy-Internet Now a days,every person's life is so busy and so hectic that we do not get time for other things.Even we do not get much time to complete our pending works on the same day or other day.In this way,the pending works get clotted and becomes a huge mountain to climb upon .          I was thinking that in these busy hours of work or study,if I get two more extra hours in a day, what will I do ?         Whether I will spend them in completing my pending works of getting a new Ration Card,as we have from shifted from the rented house to our own home on the other side of the town,or will I go to meet some of my friends and relatives with whom I never find time to meet,though they are in the same town .        I have got other options also to spend my time,like meeting and having fun with my old classmates hovering around Kolkata or visiting my old area & meeting those peoples who were with us in that rented colony since the time I opened my eyes as

कलकत्ता का प्रसिद्द बाबा भूतनाथ मंदिर और हावड़ा निवासी भक्त

कुछ ढूंढली यादें और कंप्यूटर में रक्खे हुए कुछ फोटो ने मेरा ध्यान आकर्षित किया! जैसे ही मैंने फोटो देखने के लिए खोला तो सहसा याद आगया के यह सारे फोटो 2012 के सावन के महीने की हैं! वह मेरा आखरी सावन था जब बाबा धाम से लौटने के बाद, आखरी सोमवार को मैं अपने दोस्तों के साथ कलकत्ता के निमतला समसान घाट स्तिथ बाबा भूतनाथ के मंदिर गया था! आखरी सावन इसलिए क्यूंकि 2013 में पिता जी के परलोक सिधारने के बाद; ना ही मैं बाबा धाम गया और ना ही सावन के महीने में भूतनाथ मंदिर! समय बीतता गया, संन् 2014 आगया और मैं फिर से उसी जगह खड़ा हूँ जहाँ मैंने खुद को छोड़ा था! आज उन्ही यादों और अनुभव को कुछ पुराने फोटो के जरिये आपके सामने ला रहा हूँ! Lord Shiva at Bhootnath Temple-- Smartphone Photography by JNK Bandhaghat Launch Ghat-Howrah side (Smartphone Photography by JNK) मैं हावडा में रहता हूँ, इसलिए बाबा के मंदिर जाने के लिए मुझे बांधाघाट लांच घाट से फेरी पकड़नी पड़ती है! इस सुभ यात्रा की शुरुआत गंगा नदी पर सफर करने से शुरू होती है! Smartphone Photography by JNK गंगा नदी पार करने के बाद

Do's and Don'ts of selecting the right type of face mask for Corona Virus Covid 19 protection

The deadly Covid 19 or Corona Virus we all know about is evolving day by day, so should be our (humans) tactics for protection from it. Do you know, which type of face mask protects you better from Corona Virus? If not, you are in the right place as I am going to share the photographs I took while on a visit to an OPD (Out-Patients Department) of one the leading hospitals in Kolkata. Just after entering the hospital OPD as soon as I moved towards the lift, there was a paper printed image showing the do's and don'ts while selecting the right type of mask for full protection from Covid 19 Corona Virus. Without further adieu, let us see and understand from the image itself. The facial masks with air filters is a strict no-no whereas any face mask without an air filter is right choice for better protection & prevention of Corona Virus Covid 19. Just make sure it covers up widely & perfectly. Please spread this message with others, as it can save several lives. T