दावत-ए-मुर्गा --- ठंडी के दिनों में पिकनिक

बड़ा
दिन यानि 25 दिसंबर का दिन हम सभी धूम-धाम से मानते हैं और मनाते हैं। कहीं कोई केक और पेस्ट्रीज खाता है, कोई गिरजा घर जाता है, कोई सिनेमा देखने जाता है तो कई लोग पूरे परिवार के साथ सैर सपाटा करने निकल जाते हैं।

National Holiday होने की वजह से कभी-कभी हम जैसे भुक्कड़ लोगों के ग्रुप को कुछ रुचिकर और कुछ सुरुचिकर करने और कराने का मौका मिलता है। एक ऐसा भी बड़ा दिन गुजरा था कभी जब सभी मित्रों के सहयोग से कुछ खाने-पकाने पर सर्वसम्मति बनि। कड़कती ठंडी को मात देने और बड़े दिन को कुछ और बड़ा करने की सोच से लैस कई सुझाव आये पर किसी एक का चयन कर पाना कठिन हो रहा था। मुद्दा ये नहीं था के मुर्गी पके या मुर्गा..... :-)


पिकनिक करने के लिए मुद्दा तो यह था के चिकन करी के साथ चावल हो या सत्तू वाली लिट्टी।

आखिरकार मामला ठंडी में गर्मी के एहसास का था तो सत्तू से भरी हुयी और तेल में तली हुयी लिट्टी पर बात अटक रही थी पर निष्कर्ष निकला के जिन्हे पुलाव पसंद हो उनके लिए पुलाव भी बने

यह तय होते ही के मुर्गी के साथ थाली में क्या-क्या सजेगा, यह भी तय हो गया के प्रत्येक बंदे को इस एक पहर की पिकनिक में कितने रुपये देने हैं और क्या-क्या काम करना है। मिल-जुलकर खुद से की हुयी तैयारी कैसा रंग लाती है इन तस्वीरों में देखते जाइये।
लिट्टी से चोखा हुआ गायब, अब चिकन ने ली जगह!


सबसे पहले सब्जी-बाजार के चक्कर




दावत की तैयारी

लिट्टी गढ़ना शुरू

प्याज, धनिया, अदरक, लहसुन READY ?

सुगंध तो गृहणी द्वारा पकाये गोश्त की तरह आ रही है

लो पुलाव तैयार है

रंग-रूप से शानदार, जबरजस्त, ज़िंदाबाद

 पकाना और पकना

जुगाड़ू विद्या से पापड़ सिंकाई 
अलाव के सामने बैठ कर ठंडी में हाथ सेकना

पेश है लज़ीज दावत-ए-मुर्गी - 7 Star Spicy Indian Chicken Recipe 


दावत-ए-मुर्गी स्पेशल -- पुलाव और चिकन करी

दावत-ए-मुर्गा स्पेशल -- लिट्टी और चिकन करी

एक हाथ से HIGH-FIVE और दूसरे हाथ की सभी उँगलियाँ थाली में! वाह भाई वाह!

Popular posts from this blog

कलकत्ता का प्रसिद्द बाबा भूतनाथ मंदिर और हावड़ा निवासी भक्त

Viewing 51 Feet Tall Lord Shiva Statue at Bangeshwar Mahadev Mandir in Howrah, Eastern India.

कौवा काला क्यूँ होता है?