Skip to main content

Poor People in Rich India, where are the so called philanthropists?

 photo Indian poor man sleeping openly in mid winter without clothes but just plastic
Poor man sleeping openly in chilly weather without clothes but just a plastic wrap.

poor indian man sleeping in chilling weather without clothes but just plastic cum paper rap
It was Ganpati Visarjan of 2011, a normal day in the month of September with neither hot nor colder night. What astonished me suddenly was glimpse of a man sleeping on the cemented seats on the Ganges ghat of Bandhaghat wrapping up himself with few pages of newspaper and a plastic sheet. Don't know whether he had his supper or not. But to keep himself aloof from cost of the treatment of diseases like cough, cold or malaria, he had covered up himself with a piece of paper as the breeze from river Ganges were not strong enough to keep the mosquitoes away from this home-less guy. He might be a Rickshaw Puller or a labourer, may be an unemployed poor or a beggar. By observing his condition I found that he didn't even had a piece of cloth on his body other than his underwear which made my assumption strong for him to be poor beggar.
                  I found myself in an awkward situation. Felt pity for that poor guy from an Indian citizen and a human's perspective, that my own race is lagging behind in basic facilities even in this 21st century.

Popular posts from this blog

कलकत्ता का प्रसिद्द बाबा भूतनाथ मंदिर और हावड़ा निवासी भक्त

कुछ ढूंढली यादें और कंप्यूटर में रक्खे हुए कुछ फोटो ने मेरा ध्यान आकर्षित किया! जैसे ही मैंने फोटो देखने के लिए खोला तो सहसा याद आगया के यह सारे फोटो 2012 के सावन के महीने की हैं! वह मेरा आखरी सावन था जब बाबा धाम से लौटने के बाद, आखरी सोमवार को मैं अपने दोस्तों के साथ कलकत्ता के निमतला समसान घाट स्तिथ बाबा भूतनाथ के मंदिर गया था! आखरी सावन इसलिए क्यूंकि 2013 में पिता जी के परलोक सिधारने के बाद; ना ही मैं बाबा धाम गया और ना ही सावन के महीने में भूतनाथ मंदिर! समय बीतता गया, संन् 2014 आगया और मैं फिर से उसी जगह खड़ा हूँ जहाँ मैंने खुद को छोड़ा था! आज उन्ही यादों और अनुभव को कुछ पुराने फोटो के जरिये आपके सामने ला रहा हूँ! Lord Shiva at Bhootnath Temple-- Smartphone Photography by JNK Bandhaghat Launch Ghat-Howrah side (Smartphone Photography by JNK) मैं हावडा में रहता हूँ, इसलिए बाबा के मंदिर जाने के लिए मुझे बांधाघाट लांच घाट से फेरी पकड़नी पड़ती है! इस सुभ यात्रा की शुरुआत गंगा नदी पर सफर करने से शुरू होती है! Smartphone Photography by JNK गंगा नदी पार करने के बाद

कोलकाता के थीम दुर्गा पूजा के सभी फोटो - Durga Puja Photo Throwback

कोलकाता पश्चिम बंगाल की राजधानी है। इसे भारत का सिटी ऑफ़ जॉय भी कहा जाता है यानि एक ऐसा शहर जो खुशियों से भरा हो। मैं तो इसे त्योहारों की राजधानी मानता हूँ। ऐसा ही एक त्योहार है दुर्गा पूजा जिसे देश के अन्य भागों में दशहरा या दसरा के नाम से भी जाना जाता है। वैसे दुर्गा पूजा और दशहरा में उतना ही अंतर है जितना की नवरात्री और दुर्गा पूजा में है। चाहे नाम जो भी हो पर देवी दुर्गा की आराधना ही इस पर्व का मूल उद्देश्य होता है। कोलकाता-वासी साल भर राह देखते रहते हैं के कब दुर्गा पूजा आए और उनकी खुशियों में चार चाँद लगे। इसकी उलटी गिनती ओडिशा के प्रसिद्द श्री जगन्नाथ जी के 'रथ यात्रा' के दिन से शुरू हो जाती है। कमोवेश रथ पूजा के बाद से 100 दिन शेष रह जाते हैं दुर्गा पूजा के लिए जो की तैयारियां शुरू कर देने का उद्घोष होता है। बंगाली समाज में माता रानी से इतना लगाव है की कोलकाता और बंगाल के सभी जिलों में दुर्गा पूजा बड़े ही धूम-धाम से मनाई जाती है। गली हो या मोहल्ला, थोड़ी सी जगह हो या बड़ी-चौड़ी जगह दुर्गोत्सव के रूप-रंग में ढलने में किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं होती। बड़ी ही सरलता

If I had two extra hours in a day,I would......

Picture courtesy-Internet Now a days,every person's life is so busy and so hectic that we do not get time for other things.Even we do not get much time to complete our pending works on the same day or other day.In this way,the pending works get clotted and becomes a huge mountain to climb upon .          I was thinking that in these busy hours of work or study,if I get two more extra hours in a day, what will I do ?         Whether I will spend them in completing my pending works of getting a new Ration Card,as we have from shifted from the rented house to our own home on the other side of the town,or will I go to meet some of my friends and relatives with whom I never find time to meet,though they are in the same town .        I have got other options also to spend my time,like meeting and having fun with my old classmates hovering around Kolkata or visiting my old area & meeting those peoples who were with us in that rented colony since the time I opened my eyes as