Skip to main content

Ganpati Visarjan - A Rare Chance which I gotta experience

Ganesh Visarjan is being performed by Howrah lads on Bandhaghat river shore
Back to back Ganesh Visarjan at Bandhaghat Ferry Ghat
 It was a hectic day on 4th September 2011 as I after finishing the birthday party of TS, went to tutions. While returning back to home made a phone call to a friend just to ask whether Ganpati Visarjan is done or not. Fortunately they were late and I got a chance to experience that moment with friends. Asked them to slow down as it will take 15 minutes from my place to reach them. Went up there, parked my bike and bag in a safe place. Joined them on the streets leading to Ganges ghat, popularly known as Bandhaghat in Howrah. They danced throughout the way upto the ghat celebrating the festival of Ganesh Puja to its fullest. Later they stopped, prayed and submerged the idol of Lord Ganesha into the river Ganges.
Lord Ganesha puja idol immersion visarjan rituals performed at river ganga ghat howrah
Ganesh Visarjan successfully done at Salkia Bandghat Ferry dock



I was lucky to experience this not only because they were late on their way to Ganesh Visarjan but because I was fortunate enough to pray in-front of Lord Ganesha and also had an opportunity to drink coconut water from the coconut which was used to worship him. It really felt nice for the rare chance which I got to experience along with drinking that sweet coconut water. Ganpati Bappa....Morya

Popular posts from this blog

कलकत्ता का प्रसिद्द बाबा भूतनाथ मंदिर और हावड़ा निवासी भक्त

कुछ ढूंढली यादें और कंप्यूटर में रक्खे हुए कुछ फोटो ने मेरा ध्यान आकर्षित किया! जैसे ही मैंने फोटो देखने के लिए खोला तो सहसा याद आगया के यह सारे फोटो 2012 के सावन के महीने की हैं! वह मेरा आखरी सावन था जब बाबा धाम से लौटने के बाद, आखरी सोमवार को मैं अपने दोस्तों के साथ कलकत्ता के निमतला समसान घाट स्तिथ बाबा भूतनाथ के मंदिर गया था! आखरी सावन इसलिए क्यूंकि 2013 में पिता जी के परलोक सिधारने के बाद; ना ही मैं बाबा धाम गया और ना ही सावन के महीने में भूतनाथ मंदिर! समय बीतता गया, संन् 2014 आगया और मैं फिर से उसी जगह खड़ा हूँ जहाँ मैंने खुद को छोड़ा था! आज उन्ही यादों और अनुभव को कुछ पुराने फोटो के जरिये आपके सामने ला रहा हूँ! Lord Shiva at Bhootnath Temple-- Smartphone Photography by JNK Bandhaghat Launch Ghat-Howrah side (Smartphone Photography by JNK) मैं हावडा में रहता हूँ, इसलिए बाबा के मंदिर जाने के लिए मुझे बांधाघाट लांच घाट से फेरी पकड़नी पड़ती है! इस सुभ यात्रा की शुरुआत गंगा नदी पर सफर करने से शुरू होती है! Smartphone Photography by JNK गंगा नदी पार करने के बाद

If I had two extra hours in a day,I would......

Picture courtesy-Internet Now a days,every person's life is so busy and so hectic that we do not get time for other things.Even we do not get much time to complete our pending works on the same day or other day.In this way,the pending works get clotted and becomes a huge mountain to climb upon .          I was thinking that in these busy hours of work or study,if I get two more extra hours in a day, what will I do ?         Whether I will spend them in completing my pending works of getting a new Ration Card,as we have from shifted from the rented house to our own home on the other side of the town,or will I go to meet some of my friends and relatives with whom I never find time to meet,though they are in the same town .        I have got other options also to spend my time,like meeting and having fun with my old classmates hovering around Kolkata or visiting my old area & meeting those peoples who were with us in that rented colony since the time I opened my eyes as

कोलकाता के थीम दुर्गा पूजा के सभी फोटो - Durga Puja Photo Throwback

कोलकाता पश्चिम बंगाल की राजधानी है। इसे भारत का सिटी ऑफ़ जॉय भी कहा जाता है यानि एक ऐसा शहर जो खुशियों से भरा हो। मैं तो इसे त्योहारों की राजधानी मानता हूँ। ऐसा ही एक त्योहार है दुर्गा पूजा जिसे देश के अन्य भागों में दशहरा या दसरा के नाम से भी जाना जाता है। वैसे दुर्गा पूजा और दशहरा में उतना ही अंतर है जितना की नवरात्री और दुर्गा पूजा में है। चाहे नाम जो भी हो पर देवी दुर्गा की आराधना ही इस पर्व का मूल उद्देश्य होता है। कोलकाता-वासी साल भर राह देखते रहते हैं के कब दुर्गा पूजा आए और उनकी खुशियों में चार चाँद लगे। इसकी उलटी गिनती ओडिशा के प्रसिद्द श्री जगन्नाथ जी के 'रथ यात्रा' के दिन से शुरू हो जाती है। कमोवेश रथ पूजा के बाद से 100 दिन शेष रह जाते हैं दुर्गा पूजा के लिए जो की तैयारियां शुरू कर देने का उद्घोष होता है। बंगाली समाज में माता रानी से इतना लगाव है की कोलकाता और बंगाल के सभी जिलों में दुर्गा पूजा बड़े ही धूम-धाम से मनाई जाती है। गली हो या मोहल्ला, थोड़ी सी जगह हो या बड़ी-चौड़ी जगह दुर्गोत्सव के रूप-रंग में ढलने में किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं होती। बड़ी ही सरलता