Skip to main content

Durga Puja-The Great Indo-bong Festival

bengali durga puja by zamindars
Durga Idol worshipped by Zamindar Family through years
It's Durga Puja...The well known biggest festive season in West Bengal.,now a days,Paschimbanga. This year too it was wonderful. It was delightful and different from past years Durga Puja.I went along my friends and checked out some unique puja mandap themes and idols in different style and shape. We hovered all around Kolkata and Howrah. It was not like old days,when I used to go with Papa and Maa,holding their fingers, though I missed those days this festival season. I can remember that I used to be a naughty child and always in a hurry to release my hands and run here and there among the crowd and let them find me. I guess, I was always in a playful mood. But not this time,as I went with my friends on bike and hovered the whole city gazing at pandals, idols and people wearing different types of clothes,from different places,with different nature,different style,but having a common spirit to enjoy Durga Puja.              The best part of Durga Puja is that people come from all over the world to experience this festive season.Durga Puja is mere begining,as after this West Bengal will experience Lakkhi Puja, Deepawali, Jagdhatri Puja and the final destination will be Chath Puja. I will definately blog about all these festivals and my experiences about them,stick to my blog for the latest ones.



durga puja 2011 howrah at kona bazar
At Kona,Howrah

kolkata bengali durga puja pandal mandap 2011 in howrah
Temple Themed Pandal

durgapuja kolkata 2011 godess durga hindu deity maa durga lakshmi saraswati kartik ganesh
Durga puja mandap in howrah during pujo 2011
Standard looking Durga Idol with Ganesha, Saraswati,Lakhsmi and Kartik

goddess durga idol at durga puja in kolkata esplanade hog market
Durga Murti, outside KMC, Hog Market, Esplanade, Kolkata
Shiny durga puja idols murti kolkata
Golden Shine on Durga Idols

Muddy idols of kolkata durga pujo in west bengal
Muddy look Idols
recreating lotus temple as durga puja pandal in dankuni howrah mandap
Lotus Temple themed Durga Puja Pandal near Dankuni Station, 2011
Shivalinga themed Durga Puja Pandal at Golabari, Howrah
Shivlinga themed Puja Pandal
Green colored durga murti in pujo kolkata howrah 2011 year
Green Durga-My Favorite













 

Popular posts from this blog

कलकत्ता का प्रसिद्द बाबा भूतनाथ मंदिर और हावड़ा निवासी भक्त

कुछ
ढूंढली यादें और कंप्यूटर में रक्खे हुए कुछ फोटो ने मेरा ध्यान आकर्षित किया! जैसे ही मैंने फोटो देखने के लिए खोला तो सहसा याद आगया के यह सारे फोटो 2012 के सावन के महीने की हैं! वह मेरा आखरी सावन था जब बाबा धाम से लौटने के बाद, आखरी सोमवार को मैं अपने दोस्तों के साथ कलकत्ता के निमतला समसान घाट स्तिथ बाबा भूतनाथ के मंदिर गया था! आखरी सावन इसलिए क्यूंकि 2013 में पिता जी के परलोक सिधारने के बाद; ना ही मैं बाबा धाम गया और ना ही सावन के महीने में भूतनाथ मंदिर! समय बीतता गया, संन् 2014 आगया और मैं फिर से उसी जगह खड़ा हूँ जहाँ मैंने खुद को छोड़ा था! आज उन्ही यादों और अनुभव को कुछ पुराने फोटो के जरिये आपके सामने ला रहा हूँ!




मैं हावडा में रहता हूँ, इसलिए बाबा के मंदिर जाने के लिए मुझे बांधाघाट लांच घाट से फेरी पकड़नी पड़ती है! इस सुभ यात्रा की शुरुआत गंगा नदी पर सफर करने से शुरू होती है!


गंगा नदी पार करने के बाद, मंदिर के सामने सटे हुए नल से हाथ-पैर धो कर फूल-पत्रिका खरीदने के उपरांत मंदिर के द्वार के सामने लगे हुए कतार में लग जाने की कार्यविधि चालू होती है! सावन के महीने में श्रद्धालुओं के हुजूम क…

Viewing 51 Feet Tall Lord Shiva Statue at Bangeshwar Mahadev Mandir in Howrah, Eastern India.

One of it's kind in Eastern India, this 51 feet tall Lord Shiva statue was unveiled by Honorable President Of India Shri Pranab Mukherjee on Sunday, December 13, 2015. The President along with his team and Governor of West Bengal Keshari Nath Tripathi visited the famous temple 'Natun Mandir' aka 'Naya Mandir' which means 'Newest Temple' in English, i.e, Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir or Bangeshwar Mahadev Mandir in Howrah early morning on Sunday. FYI, the Shiva Temple rests in between Howrah Railway Station and Salkia's Bandhaghat area exactly on Salkia School Road which is both way connected to Kolkata either by road or by river through Golabari-Armenian Ferry Service as well as Bandhaghat-Ahiritola Ferry service too. It would hardly take an hour to reach the landmark if you are connecting the nearby dots I mentioned above during peak traffic hours.




Since the inauguration was of a rarest of rare Lord Shiva statue in my city by The President Of Ind…

कौवा काला क्यूँ होता है?

"दिन में एक बार खाओ और दो बार नहाओ" कुछ अजीब लगता है न सुनने में?  इसके पीछे भी एक पौराणिक कथा है जो मैंने गाँव में सुनी थी। गर्मियों का वक़्त था, ज्यादातर गांववासी दोपहर में "साधू बाबा की कुटी" पर एकत्रित होते थे। आम, बरगद और पीपल के पेड़ के छांव में बाबा की कुटी के बाहर बने चबूतरे पर सब बैठ कर गप्पबाज़ी किया करते थें। मैं भी गाँव गया था स्कूल की गर्मियों की छुट्टी में। तब मोबाइल का जमाना नहीं था और इसलिया लोगों के पास और मेरे पास भी दोपहर में टाइम-पास करने का कोई माध्यम नहीं हुआ करता था।

            पापा और चाचा, कुटी पर पहले से ही जा चुके थे और हर रोज़ की तरह, कुछ बातों और कुछ रोचक जानकारियों का आदान-प्रदान चल रहा था। मैं भी वहाँ पंहुचा तो पता चला की खाने-पिने की बात चल रही थी। गाँव के सभी बड़े लोग वहा पर मौजूद थें। सब इधर-उधर की बातें कर रहे थें और सबका मन्न भी पेड़ो की छांव में बतियाने में लगा हुआ था। तभी 60 वर्षीय  "साधू बाबा" अपने कुटी से निकलें। उनका भी मन्न उस मिटटी के बने और पुअरा (बिचाली) से ढके हुए ठन्डे "कुटी" में नहीं लग रहा था। वो …