Big Slider

Recent Trend

All Over Internet [sly fa-globe]

Funny Indian Twitter Users [sly fa-twitter]

Hindi Only

दावत-ए-मुर्गी --- ठंडी के दिनों में पिकनिक का आनंद

0

दावत-ए-मुर्गी --- ठंडी के दिनों में पिकनिक का आनंद

बड़ा
दिन यानि 25 दिसंबर का दिन हम सभी धूम-धाम से मानते हैं और मनाते हैं। कहीं कोई केक और पेस्ट्रीज खाता है, कोई गिरजा घर जाता है, कोई सिनेमा देखने जाता है तो कई लोग पूरे परिवार के साथ सैर सपाटा करने निकल जाते हैं।  National Holiday होने की वजह से कभी-कभी हम जैसे भुक्खड़ लोगों को कुछ रुचिकर और कुछ सुरुचिकर करने और कराने का मौका मिलता है। एक ऐसा भी बड़ा दिन गुजरा था कभी जब सभी मित्रों के सहयोग से कुछ खाने-पकाने पर सर्वसम्मति बनि। कड़कती ठंडी को मात देने और बड़े दिन को कुछ और बड़ा करने की सोच से लैस कई सुझाव आये पर किसी एक का चयन कर पाना कठिन हो रहा था। मुद्दा ये नहीं था के मुर्गी पके या मुर्गा...LOL


मुद्दा तो यह था के चिकन करी के साथ चावल हो या सत्तू वाली लिट्टी। आखिरकार मामला ठंडी में गर्मी के एहसास का था तो सत्तू से भरी हुयी और तेल में तली हुयी लिट्टी पर बात अटक रही थी पर निष्कर्ष निकला के जिन्हे चावल पसंद हो उनके लिए पुलाव भी बने। यह तय होते ही के मुर्गी के साथ थाली में क्या-क्या सजेगा, यह भी तय हो गया के प्रत्येक बंदे को इस एक पहर की पिकनिक में कितने रुपये देने हैं और क्या-क्या काम करना है। मिल-जुलकर खुद से की हुयी तैयारी कैसा रंग लाती है देखते जाइये।   
लिट्टी से चोखा हुआ गायब, अब चिकन ने ली जगह!


सबसे पहले सब्जी-बाजार के चक्कर




दावत की तैयारी 

लिट्टी गढ़ना शुरू 

प्याज, धनिया, अदरक, लहसुन READY ?

सुगंध तो गृहणी द्वारा पकाये गोश्त की तरह आ रही है 

लो पुलाव तैयार है 

रंग-रूप से शानदार, जबरजस्त, ज़िंदाबाद 

 पकाना और पकना 

जुगाड़ू विद्या से पापड़ सिंकाई  
अलाव के सामने बैठ कर ठंडी में हाथ सेकना 

पेश है लज़ीज दावत-ए-मुर्गी - 7 Star Spicy Indian Chicken Recipe  


दावत-ए-मुर्गी स्पेशल -- पुलाव और चिकन करी

दावत-ए-मुर्गा स्पेशल -- लिट्टी और चिकन करी

एक हाथ से HIGH-FIVE और दूसरे हाथ की सभी उँगलियाँ थाली में! वाह भाई वाह!

0 comments

Viewing 51 Feet Tall Lord Shiva Statue at Bangeshwar Mahadev Mandir in Howrah, Eastern India.

0

Viewing 51 Feet Tall Lord Shiva Statue at Bangeshwar Mahadev Mandir in Howrah, Eastern India.

O
ne of it's kind in Eastern India, this 51 feet tall Lord Shiva statue was unveiled by Honorable President Of India Shri Pranab Mukherjee on Sunday, December 13, 2015. The President along with his team and Governor of West Bengal Keshari Nath Tripathi visited the famous temple 'Natun Mandir' aka 'Naya Mandir' which means 'Newest Temple' in english, i.e, Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir or Bangeshwar Mahadev Mandir (Official Website link embedded, click to view) in Howrah early morning on sunday. FYI, the Shiva Temple rests in between Howrah Railway Station and Salkia's Bandhaghat area exactly on Salkia School Road which is both way connected to Kolkata either by road or by river through Golabari-Armenian Ferry Service as well as Bandhaghat-Ahiritola Ferry service too. It would hardly take an hour to reach the landmark if you are connecting the nearby dots I mentioned above during peak traffic hours.
First Day of inaugurating the tallest ever lord Shiva in Eastern India at Bangeshwar Mahadev Mandir, Howrah

Out of 5 heads of Hindu deity Lord Shiva, four heads can be seen in the photo from front, while the rest one is on backside and can be seen while crossing river Ganga from Jetty. Photo clicked at Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir's Bangeshwar Mahadev Mandir in Howrah
Since the inauguration was of a rarest of rare Lord Shiva statue in my city by The President Of India itself, adequate measures were taken to not to repeat any occlusion again, specially stampedes like Deshapriya Park Durga Puja of 2015 which happened while inaugurating the tallest ever, 81 feet Durga Idol on October 18, 2015. Thus, no promotions were done by the "Bangeshwar Mahadev Mandir" authorities in any newspaper, TV or online media. Instead, I was aware of this fact a week ago that Honorable President will be unveiling the idol which we used to see in construction while sailing on a ferry service to and fro Howrah & Kolkata on the river Ganges. All thanks to a loquacious friend of mine for this pre-news.

Welcome banner written in bengali hung opposite the gate of Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir for the honourable President of India, Shri Pranab Mukherjee.


President of India worshipping Shivalinga in the temple at Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir. Pictures posted by 'President of India' on facebook.

 President of India inaugurated 51 feet tall Lord Shiva statue/idol at Bangeshwar Mahadev Temple. Pictures posted by 'President of India' on facebook

President of India, Pranab Mukherjee seeking blessings and taking blessings after inaugurating the 51 feet tall lord Shiva statue at Bangeshwar Mahadev Temple, Howrah. Picture posted by 'President of India' on facebook.


This Fifty One Feet tall Shiva idol is unique in itself, not just because of geographical location but because of it's construction. The Shiva statue has five heads. It is made up of fibre glass, cement and reinforced cement concrete (RCC) and took 6 months to complete, weighing around 3 tonnes is currently shining on the bank of river Ganga on Howrah side but can be easily seen from the Howrah Bridge as well as the opposite bank of river Ganga, i.e, Kolkata side too. In case if you are Lord Shiva devotee from Kolkata, you can get a glimpse of it while visiting Lord Shiva Temple, The Bhootnath Temple of Bara Bazar, Kolkata which is situated in between Ahiritola and Nimtala crematorium.
Naya Mandir is new again. See the tallest Shiva hiding behind the temple dome. A Perfect glimpse while entering this famous temple we know by several names, such as Naya Mandir or Natun Mandir or Bangeshwar Mahadev Mandir or Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir. It's a proud moment for all Howrah residents and people living in adjoining areas.


Though I was not able to visit the temple early morning on the inaugural day, I visited it the same day in evening. As I entered the temple premises, I found nothing new and surprising except a well decorated temple building covered by garlands. But As soon as I came closer to the temple building, walking down the pathway and garden, I noticed something flashing on my eyes behind the temple's dome. I was something like a first look teaser.

"Chalo bhakton, Photo le lo re..." Whole howrah is super excited, not just me!


There he was, shiny five headed Shiva who powered me up with divine feel and aroma coming out of the almighty. Felt proud that the district I was born in is in limelight for such a nice cause, felt nice that the temple I used to visit with my friends since childhood or sometimes alone in search of solace is blessed by the sight of 15 eyed Lord Shiva. What else can be more intriguing that I managed somehow to take a glimpse & blessings of the newly unveiled lord Shiva statue on it's very first day of being public, last but not the least.


Tallest Shiva Statue in Eastern India, Bangeshwar Mahadev Mandir aka Naya Mandir

Five headed Shiva statue on the banks of river Ganga, Natun Mandir, Howrah 

Along with this ceremony, Natun Mandir aka Naya Mandir or (New Temple) has once again proven it's name of being youngest and innovative temple out here in Howrah district. Their clean Ganga initiative and hard work always helped curb polluting of the river. Though a temple on the bank of river Ganga or a mandir committee is not enough to ensure that the whole river becomes garbage and pollution free. Thus their initiative in public interest to aware every Indian about "Clean Ganga - Save India" is really commendable. See how they renovated the temple premises with these thoughtful quotes.  


Urge to save the purity of sacred Ganges- Save Ganga, Clean Ganga, Save India, Clean India. Quote by Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir, Bangeshwar Mahadev Mandir, Salkia School Road, Bandhaghat, Howrah

Dying Ganga will kill India and our religion too. #Quote by Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir, Bangeshwar Mahadev Mandir, Howrah

Ganga+God=Mokhsha = Faith of purity. Please maintain the faith. Quote by Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir

Come out of the movie 'gangajal', this one is sacred. Quote by Seth Banshidhar Jalan Smriti Mandir, Howrah, West Bengal

I hope from now on every Indian, irrespective of their caste and creed would pay some importance to the ailing river Ganga, at least if not for the sake of aquatic ecosystem, but for the fear of being caught by the 5 headed & 15 eyed almighty Lord Shiva who is ready with his trishul(trident) in one hand to kill the river polluting evils and to bless those nice souls from his other hand because they value to maintain the purity and essence of the river. Have a look.
Polluting river Ganga is like snatching mother Ganga from his head. Do you agree? 
Har Mahadev
Har Har Mahadev
Har Har Mahadev
0 comments

A Sunday Treat At Dakshineswar Temple Kolkata

0

A Sunday Treat At Dakshineswar Temple Kolkata

I
t would have been a regular and lazy sunday that day which comes every weekend unless there is something special to cherish about. But thanks to my friend, let's call him 'L'; who planned to visit Dakshineswar Kali Temple in Kolkata early morning to perform pooja rituals in the temple to welcome his new motorcycle TVS Apache RTR to the family. 

Bike Pooja Vahan Vahana Puja at Dakshineswar Kali temple Mandir kolkata
Drawing Swastika Sign prior to Bike Puja

As we were heading towards Dakshineswar Temple from Howrah, we have already checked the normal opening and closure timings as well as aarti timings of the Kali Temple from
0 comments

बंदरों का आतंक।

0

बंदरों का आतंक।

इंसान और बंदर देखने में काफी अलग पर ढांचा बिलकुल एक जैसा । वही २ कान, २ आँखें, १ नाक और मुँह, १०-१० उँगलियों के पंजे पर एक अकेली पूँछ ने सारा खेल बिगाड़ दिया । वरना आज वो जानवर होते हुए भी मनुष्यों के साथ पल-बढ़ रहे होते क्यूंकि बंदरों को इंसानो के साथ काम करना या यूँ कहें उनकी नक़ल उतारना बखूबी पसंद है। 
तमाशा दिखाने आया मदारी,  बन्दर से करतब कराने को 
Baba Abhay holding a bad baby monkey- Year 2013

या यूँ कहें के इंसानों को बंदरों के साथ घुलना-मिलना अच्छा लगता हैं! तभी तो मदारी भी इन कपि शावकों को बचपन से ही पाल पोस कर बड़ा करना चाहता हैं । वो शायद इसलिए के बचपन से इंसानो के बीच पले-बढे होने से इन् जानवरों में मनुष्यों के प्रति एक लगाव सा हो जाता है । वो अपने मालिक के उँगलियों पर नाचने के लिए तैयार किया जाने लगता है । लोग बड़े चाव से मदारी का तमाशा भी देखते हैं, पैसे लुटाते हैं, बंदर को केला-फल खिलाया जाता है इत्यादि-इत्यादि !
खैर वो अलग बात है के मैं इस बन्दर के बच्चे को केला देने के बजाय Hajmola Candy देने गया था, पर कहावत ये हो गयी के "बन्दर क्या जाने CANDY का स्वाद"। 2013 की ही बात कर रहा हूँ ! जल्दी से हाजमोला कैंडी मेरे हाथों से लपकते ही इसने मुझे ऊँगली में काट लिया! बस क्या, उसी दिन से मेरा बुरा होने लगा । सरकारी हस्पताल से बंदर काटने का इंजेक्शन यानि टिका लेना पड़ा । मुझे ये उम्मीद एक बन्दर के बच्चे से नहीं थी पर क्या करता, ठहरा तो वो जानवर ही । 
गोरखपुर रेलवे स्टेशन पर है इनका अड्डा 

मियां, कहीं साइकिल गायब करने के फ़िराक में तो नहीं हैं?
 मज़ा तो तब आता है जब ये बन्दर बिना आक्रामकता के, स्वेच्छा से करतब दिखाए। जैसे घरों की दीवारों पर कूदना, झुंड में सबके आकर्षण का कारण बनना, बड़े-बड़े पेड़ों पर लम्बी लम्बी छलांग लगाना या बिना ड्राइविंग लाइसेंस के दो पहिया वाहन की सवारी करना इत्यादि । 




        जरुरी नहीं के जो बन्दर जंगली हैं, अर्थात जिनका लालन-पोषण मनुष्यों ने नहीं किया हैं उन्हें मनुष्यों और उनके रोजमर्रा के वस्तुओं से प्यार नहीं । ज़रा, इन्हे तो देखिये । मेरे बड़े भैया ने ५ मिनट के लिए मोटरसाइकिल क्या खड़ी कर दी इन महाशय ने तो कब्ज़ा ही कर लिया । 
Driving License dikhao...

Who  let the Dogs out, Oops- I meant 'Monkey out'


घड़ियाँ बीतती जा रही है इस इंतज़ार में के हनुमान जी के कलयुगी अवतार लंगूर-Man कब मोटरसाइकिल से उतरेंगे और हमलोगों को अपनी गाडी के हैंडल लॉक में चाभी घुसाने मिलेगा । मज़ाल नहीं किसीकी जो बैठे हुए इस लंगूर को अंगूर का लालच देकर निचे उतार जाए । आखिरकार अच्छा खासा समय मोटरसाइकिल के नरम-नरम सीट पर बिताने के बाद इजाजत मिली की हम लोग अपनी गाडी लेकर वापस जा सके! 
बकवास गाडी है, आगे बढ़ती ही नहीं 

0 comments

देशी गन्ने का जूस- अमृत से सत्कार

0

देशी गन्ने का जूस- अमृत से सत्कार

गर्मी का महीना, भरी दोपहरी, कड़क धुप और उसपे अगर मोटरसाइकिल से पड़ोस के गॉव में अपने किसी हितैषी से मिलने जाना हो तो भी ये चिलचिलाती गर्मी हित-मीत वाले चाल-चलन नहीं दिखलाती है।  पर हित तो हित ही होते हैं । घर के दरवाजे पर पहुंचे नहीं के चारपाई लग गयी पीपल के पेड़ के निचे।  


Extracting sugarcane juice- The Desi Style
बाकायदा दुआ-सलाम होने के साथ-साथ बच्चों को जल्द से जल्द सेवा में अमृत पान कराने को कहा गया । बच्चे ने ईंख चिभते हुए सर हिलाया! पछुआ हूं-हूं (पश्चिम दिशा से बहनेवाली हवा) कर बह रही थी! सर से पैर तक पसीने से बुरा हाल हुए जा रहा था । तभी मोटर चलने की आवाज़ आई। 
Sugarcane pile all over the verandah
पल भर में इंजन की आवाज़ बंद होते ही बाल्टी भर गन्ने का शीतल अमृत रूपी रस और गिलास हाज़िर था । शहरों में बिकने वाले छिले हुए गन्ने के रस की तरह चमकदार और साफ़ तो नहीं था पर गावं की मिटटी से जुड़ा ज़रा सा मठ -मैला पर स्वाद ऐसा की हलक से उतारते ही मानो जैसे मोक्ष प्राप्त हो गया हो! 
Juicer for lump sugar
भेलि और गुड़ के लिए निकले गए रस के भंडार को आग पर पकाने के साथ-साथ गन्ने के छिलके की गन्दगी तैरते हुए ऊपर आ जाती और तब उसे निकल दिया जाता है । वरना यूँही अमृत रस पीने के लिए गन्ने को छिलने की क्या जरुरत है। आखिर स्वाद और सेहत के साथ मिटटी की खुशबू भी मिल जाये तो क्या बुरा है?
0 comments

गांघी जी के तीन गुणी बन्दर

0

गांघी जी के तीन गुणी बन्दर

          Image is for representational purpose only.

 जैसा की देख कर पता चल रहा है के भारत के स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त का दिन है एवं झंडा फहराने के बाद का दृश्य है। देश-विदेश की बात होते-होते बात उठी गयी थी गांधी जी के तीन बंदरों की क्योंकि वे कोई मामूली बन्दर नहीं थे। तीनों के तीनों गुणवान थे। एक को बुरा न सुनने का गुण था। दूसरा बुरा ना देखता था और तीसरा बुरा न कहता था। कुछ ऐसी ही कहानी आपने भी कभी सुनी होगी। पर हमारा टॉपिक ऑफ़ डिस्कशन ही कुछ अलग था। हम सभी मित्र फ़ोटो खीचने के बाद गांधियन युग के उन् बंदरों का अस्तित्व सन् 2015 में खोजने लगे।
                                  चर्चा चली सबने अपना अपना निष्कर्ष और वक्तव्य रक्खा पर आश्चर्य न हुआ यह जान कर की गांधीजी के तीनों बन्दर अभी भी हमारे अंदर जीवित हैं पर हमलोगों को इसका एहसास भी नहीं। एहसास हो भी तो कहाँ से? उनके गुणों में उनके सबसे बड़े अवगुण जो छुपे हुए हैं जिसपर गौर फरमाना चाहिए। वो यह के पहला गुणी बन्दर जो बुरा सुन नहीं पाता वह फर्राटे से बुरा बोलता है और देखता है। दूसरा गुणी बन्दर जो बुरा देख नहीं पाता पर बुरा कहने और सुनने में फॉरवर्ड है। और तीसरा गुणी बन्दर जो बुरा सुन नहीं पाता पर बुरा देखने और कहने में सक्षम है। गांधीजी के इन तीन बंदरों ने जो गुण और अवगुण का मेल दिखाया है उसका ratio 2:1 बनता है। यानि एक गुण पर दो अवगुण मुफ़्त-मुफ़्त-मुफ़्त। अब आप ही सोच लीजिये के आज के ज़माने में जहाँ हमारे अंदर एक गुण एवं दो अवगुण निहित हो तो समाज में भ्रस्टाचार, दुराचार, बलात्कार, अत्याचार, पिछड़ी-रूढ़िवादी सोच जैसे मन लुभावन केला रूपी फल तो हम ही जैसे बंदरों का मन् लालचायेगा ही! जबकि होना यह चाहिए था के उन तीन गुणी बंदरों के तीनो के तीनो गुण एक-एक इंसान में पाया जाना चाहिए था!
0 comments

पागलों की अपनी छोटी सी दुनिया

0

पागलों की अपनी छोटी सी दुनिया


Mattress of Junk 

इस दुनिया में पागलों की कमी नहीं है! कुछ होते हैं पर दीखते नहीं और जो दीखते हैं वो होते नहीं! इन्हे न कोई रोकने वाला न कोई टोकने वाला! उनकी हरकतें ही हमें अपनी तरफ आकर्षित करती हैं इसलिए चाहते हुए भी नज़र नहीं हटती! कई दिनों से मेरा साक्छात्कार भी मानसिक रूप से पैदल लोगों से ज्यादा हो रहा है! वे आपको किसी भी जगह, किसी भी समय दिख सकते हैं! कभी कोई(पागल) मुझे कूड़े-कचरे के ढेर पर आराम से लेट कर गहन चिंता में मिला तो कभी कोई भरी गर्मी की दोपहरी में ताड़ के पत्तों का चिल्लम बना कर गांजा सुलगाते हुए मिला! यहाँ तक की रेलवे स्टेशन पर भी इनके कारनामे खुल्लम-खुल्ला होते हैं!


Smartphone Photography by JNK

Smartphone Photography by JNK- Craving for a pot

Smartphone Photography by JNK @ Uttar Pradesh



Smartphone Photography by JNK @ Uttar Pradesh


भूख-प्यास लगती है तो दूसरों के सामने स्वतः हाथ पसार देते हैं! इनके अंदर किंचित भी घमंड नहीं आता के दूसरों से कुछ मूह खोल कर मांगना मतलब अपनी बेइज़्ज़ती करना होता है! इन्हे ना लोक-लाज का डर ना ही कल सुबह ऑफिस जाने की जल्दी ना प्रोजेक्ट पूरा कर बॉस को देने का डेडलाइन और न ही कल के भोजन के लिए आज काम करने की जरुरत ! इन्हे समाज के काम करने के तरीके से कोई मतलब नहीं, जो भी करते हैं खुद से करते हैं भले ही ज़माना इन्हे मानसिक समझे! पर जिस प्रकार साधारण लोगों की दुनिया होती हैं उसी प्रकार इनकी भी एक छोटी सी दुनिया है जिसमे वे हमेशा खोये रहते हैं! जरुरत पड़ती है तो ही अविकृत मनुष्यों से मुह लगते हैं वरना कौन सा EMI पेमेंट की आखिरी तारीख भागे जा रही है जो किसी भी ऐरे-गैरे के अपने मतलब के लिए मूह लगाया जाये!

Smartphone Photography by JNK @ Burdwan Railway Station


0 comments